माँ के इस आँचल मैं

माँ के इस आँचल मैं
प्यार का सकून मिलता है
जीने की तमन्नाओ में
नया अंदाज़ मिलता है
यू तो दोलत की छांव
में लोग जीते और मरते है
मगर माँ के इस आँचल में
फलते फूलते रहते है
यू बड़े हो कर भूल जाते है
माँ बाप का प्यार
लेकिन जीवन में काम आता है
आदर्श और उनका प्यार |


:- यशोदा कुमावत



15 टिप्पणियाँ:

amritwani.com ने कहा…

BAHUT KHUB

MA BAP KI SEWA HI SABSE BADA DHARM HE

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत ही शिक्षाप्रद रचना है!
ब्लॉग-जगत में आपका स्वागत है!

Shekhar Kumawat ने कहा…

hamari or se bhi ek bar bahna ka swagat he

shkehar kumawat

संजय भास्कर ने कहा…

माँ के इस आँचल मैं
प्यार का सकून मिलता है
जीने की तमन्नाओ में
नया अंदाज़ मिलता है


इन पंक्तियों ने दिल छू लिया... बहुत सुंदर ....रचना....

माणिक ने कहा…

lagaataar likhate rahe....sudhaar ki taraf hain. kavitaa kaa bhaaw bahut gaharaa hai.
अपनी माटी
माणिकनामा

परमजीत सिँह बाली ने कहा…

bahut sundar!

बेनामी ने कहा…

bahut achha lika hai aapne didi

savita ने कहा…

BAHUT KHUB

DIDI BAHUT ACHHA LIKHA HAI AAPNE

'अदा' ने कहा…

accha bhav, sundar kavita...
blog jagat mein swaagat hai...

राकेश कौशिक ने कहा…

यू बड़े हो कर भूल जाते है
माँ बाप का प्यार
लेकिन जीवन में काम आता है
आदर्श और उनका प्यार |
सारगर्भित सच्ची और अच्छी रचना

अजय कुमार ने कहा…

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

रोहित ने कहा…

'jise mila ho mata pita ka pyar,
usne paya jevan ka anupam uphaar'
acchi rachna,sundar bhav!

वन्दना ने कहा…

maa ke aanchal se badhkar duniya mein kuch nahi.........bahut hi sundar bhavon se sanjoyi hai.

Gayatri Upadhyay ने कहा…

its too good.....

जयराम “विप्लव” { jayram"viplav" } ने कहा…

" बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,

साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .